हनुमान चले जाना इस रात अँधेरी में - hanuman chale jana is raat andheri me

0

 हनुमान चले जाना इस रात अँधेरी में । 

 हनुमान चले जाना इस रात अँधेरी में । 

इस रात अँधेरी में इस रात अँधेरी में । 

हनुमान चले जाना इस रात अँधेरी में । । 


तुम गढ़ लंका को जाना और वैद्य सुषेण को  लाना । 

हमें नब्ज दिखानी है इस रात अँधेरी में । । 

हनुमान चले जाना इस रात अँधेरी में। ....२ 


तुम द्रोणागिरी पर जाना और ढूँढ सँजीवनि लाना। 

हमें घोंट पिलानी है इस रात अँधेरी में। । 

हनुमान चले जाना इस रात अँधेरी में। । ....२ 


सूरज न उगने पाए तुम ढूँढ संजीवन लाना । 

हमें लखन बचाना है इस रात अँधेरी में। । 

 हनुमान चले जाना इस रात अँधेरी में। । ....२ 





एक टिप्पणी भेजें

0टिप्पणियाँ
एक टिप्पणी भेजें (0)
6/column/recent
To Top