एहि घाट तें थोरिक दूरि अहै - तुलसीदास केवट प्रसंग

ravi shankar
0


 एहि घाट तें थोरिक दूरि अहै, 

कटि लौं जल-थाह दिखाइहौं जू। 

Ehi ghaaṭ ten thorik doori ahai, 

kaṭi laun jal-thaah dikhaa_ihaun joo. 

परसे पगधूरि तरै तरनी, 

धरनी धर क्यों समुझाइहौं जू॥ 

Parase pagadhoori tarai taranee, 

dharanee dhar kyon samujhaa_ihaun joo॥ 

तुलसी अवलंब न और कछू, 

लरिका केहि भाँति जिआइहौं जू। 

Tulasee avalnb n aur kachhoo, 

larikaa kehi bhaanti jiaaihaun joo. 

वरु मारिए मोहिं बिना पग धोए, 

हौं नाथ न नाव चढ़ाइहौं जू॥

Varu maarie mohin binaa pag dhoe, 

haun naath n naav chaḍhxaa_ihaun joo॥

अर्थात 

केवट राम से कहता है कि इस घाट से धोड़ी दूर पर ही कमर तक पानी है, और वह उसे दिखा देगा और आप पर  लीजिएगा । क्योंकि जैसे ही आपके पैरों की धूल मेरे नाव को छूएगी, मेरी नाव तर जाएगी( अर्थात नारी बन जाएगी)। अब मैं अपनी पत्नी से क्या कहूंगा? केवट कहता है कि मेरा नाव के सिवा और कोई सहारा नहीं है. मैं अपने बच्चों का कैसे पालन करूं? इसलिए हे नाथ! अगर आप मुझे मारें भी, मैं बिना पैर धोए आपको नाव पर (कदाचित) नहीं चढ़ाऊंगा।

Kevaṭ raam se kahataa hai ki is ghaaṭ se dhodee door par hee kamar tak paanee hai, aur vah use dikhaa degaa aur aap par  leejiegaa . Kyonki jaise hee aapake pairon kee dhool mere naav ko chhooegee, meree naav tar jaa_egee( arthaat naaree ban jaa_egee). Ab main apanee patnee se kyaa kahoongaa? Kevaṭ kahataa hai ki meraa naav ke sivaa aur koii sahaaraa naheen hai. Main apane bachchon kaa kaise paalan karoon? Isalie he naath! Agar aap mujhe maaren bhee, main binaa pair dhoe aapako naav par (kadaachit) naheen chaḍhxaa_oongaa.

तुलसीदास कृत 


एक टिप्पणी भेजें

0टिप्पणियाँ
एक टिप्पणी भेजें (0)
6/column/recent
To Top